They like to read my Life

Saturday, July 30, 2011

महक जुल्फों की ऐसी  थी उनके ,
लड़खड़ागए कदम हमारे ,
कायनात ने मुझसे कहा अच्छी थी ना वो तन्हाई 

खुशबू आंधी की तरह आई 
नशे में चूर हो कर गिर गए हम 
कायनात ने मुझसे कहा  अच्छी थी ना वो दवाई (शराब )

गिराने का कोई गम नहीं 
गिरते तो रोज़ हैं 
फर्क सिर्फ इतना सा  हैं 
रोज़ ज़मीन पर गिरते थे 
आज  खुबसूरत दल दल में गिरे हैं 
कायनात ने मुझसे फिर कहा 
अच्छी थी ना वो जुदाई 

(चिराग )


Wednesday, July 20, 2011

इश्क होता हैं दोस्ती के बाद

इश्क होता हैं दोस्ती के बाद ,
नशा चढ़ता हैं  शाम के बाद

शोला यूँ तो धडकता नहीं दिल में ,
लगती हैं आग मन में
जब देखता हूँ तुझे किसी और के साथ ,

इश्क होता हैं दोस्ती के बाद.......

कहना चाहूँ तुझसे जब दिल की बात 
बता दूँ तुझे तू क्या हैं मेरे लिए मेरी जान ,

सच को छुपाना आसान तो नहीं ,
पर झूठ मुह से निकलता हैं ,
तुझे देखने के बाद 

इश्क होता हैं दोस्ती के बाद....... 

शोर जब सुनता हूँ  गली में ,
सोचता हूँ खुद को बंद कर लूँ घर में ,
पर सन्नाटा सुनाई देता हैं तेरे आने के बाद

इश्क होता हैं दोस्ती के बाद....... 

(चिराग )

Friday, July 8, 2011

first post from laptop

good morning friends ,iam fine and i hope you all are also doing well.
This is the first post of mine from my laptop,yes friends i bought a laptop yesterday "HCL ME" .
15 inch lapi,iam really happy to have it ,lets see some of its specification
500gb hard disk,4gb RAM,i3 2nd generation intel processor,3 yr warranty ,3 yr macfee.
so from now on i will be posting from my laptop.


Sunday, July 3, 2011

कौन हैं जिम्मेदार ?

कौन हैं जिम्मेदार ,बाबा रामदेव ,आना हजारे या कांग्रेस सरकार बहुत हंगामा हुआ बाबा रामदेव और उनके समर्थको पर रामलीला मैदान पर लाठी चार्ज हुआ ,लेकिन फिर भी इन सबके लिए कोंन हैं जिम्मेदार .
कई लोगो का या लगभग सभी का सिर्फ कांग्रेस समर्थको को छोड़कर सबका कहना हैं के  कांग्रेस सरकार इसके लिए जिम्मेदार हैं वो चाहती ही नहीं हैं के लोकपाल बिल आये .

मैं इस पहलु पर थोडा सी अलग बात करना चाहता हूँ पता नहीं कितने लोग मेरी बात का समर्थन करे पर फिर भी मैं अपना एक मत रखना चाहता हूँ ,सोचिये जब क्रिकेट में कोई खिलाडी अच्छा न खेले तो हम किसे दोष देते हैं ,खिलाडी को वो तो आम सी बात हैं ,कप्तान को और चयन समिति को ..क्या आप बता सकते हैं हम ऐसा क्यों करते हैं ?
हम खिलाडी को कम चयन समिति को ज्यादा दोष देते हैं के इसे क्यों रखा टीम में ?

इसी प्रकार जरा गौर करे कांग्रेस सरकार अपनी मर्जी से तो नहीं आई सत्ता में ,उसे सत्ता में लाने वाले भी हम हैं ,मैं यहाँ कांग्रेस पार्टी का समर्थन नहीं कर रहा हूँ क्योंकि मैं तो किसी पार्टी के साथ नहीं हूँ .

पर अगर हम चुनाव के वक़्त थोडा ध्यान रख कर और पार्टी को न देख कर ,उम्मीदवार को देख कर वोट डाले तो शायद ये हमारे लिए बेहतर होगा ,परन्तु ऐसा होता नहीं हैं इस देश में ,एक रात पहले शराब,कम्बल ,रुपये बाट दिए जाते हैं और लोग बस उस बाटने वाली पार्टी को वोट दे देते हैं और ये सिर्फ भारत के गावो में नहीं शहरो में भी होता हैं बस शहरो  में एक रात पहले नहीं होता ये सब .
मैं सिर्फ इतना कहना चाहता हूँ के अगर हम अपने दिमाग और विवेक का सही इस्तेमाल करके वोट डाले तो शायद एक बेहतर सरकार ले कर आ सकते हैं और फिर हमे इस तरह के आन्दोलन भी नहीं करने पड़ेंगे  .
ये सरकार को भी इतना नहीं डर नहीं हैं क्योंकि उसे भी मालूम हैं के इस देश की जनता को पटाना काफी आसन हैं ,और जहा तक दूसरी पार्टियो का सवाल हैं वे सिर्फ अपनी -२ रोटिया सकने में लगे हैं ,
अंत में मैं सिर्फ इतना कहना चाहता हूँ के  आखिर कौन  हैं जिम्मेदार ?